पृष्ठ    1|2
मंदिर परिचय

दार्शनिक रूप से हिन्दू मंदिर एक मात्र पूजा का स्थान या संप्रदाय विशेष के धार्मिक आयोजन का स्थान नहीं है; वरन् हम इसे सर्वव्यापी शक्ति का घर भी मान सकते है। अन्य शब्दों में इसे भगवान का घर भी कहा जाता है। प्राचीन भारतीय साहित्य व शिल्प ग्रंथो में मंदिरों को भगवान के संपूर्ण शरीर की तरह माना गया है, जिसके कारण मंदिर के विभिन्न भागों को पाद, जंघा, शिखर व मस्तक आदि की संज्ञा दी जाती है।

मंदिरों की सूची
क्र. सं. राज्य / स्थिति राज्य संरक्षित / केंद्र संरक्षित डाउनलोड पी. डी. एफ.
मध्य प्रदेश
भोपाल मंडल
केंद्रीय संरक्षित मंदिर पी डी एफ
छत्तीसगढ़
(रायपुर मंडल)
केंद्रीय संरक्षित मंदिर
राज्य संरक्षित मंदिर
पी डी एफ
उत्तर प्रदेश
(लखनऊ मंडल)
केंद्रीय संरक्षित मंदिर
राज्य संरक्षित मंदिर
पी डी एफ
पश्चिम बंगाल
(कोलकाता मंडल)
केंद्रीय संरक्षित मंदिर पी डी एफ
असम
(गुवाहाटी उत्तर-पूर्व मंडल)
केंद्रीय संरक्षित मंदिर
राज्य संरक्षित मंदिर
पी डी एफ
अरुणाचल प्रदेश
(गुवाहाटी उत्तर-पूर्व मंडल)
केंद्रीय संरक्षित मंदिर पी डी एफ
मणिपुर
(गुवाहाटी उत्तर-पूर्व मंडल)
केंद्रीय संरक्षित मंदिर
राज्य संरक्षित मंदिर
पी डी एफ
त्रिपुरा
(गुवाहाटी उत्तर-पूर्व मंडल)
केंद्रीय संरक्षित मंदिर
पी डी एफ
मेघालय
(गुवाहाटी उत्तर-पूर्व मंडल)
राज्य संरक्षित मंदिर पी डी एफ
१० हिमाचल प्रदेश केंद्रीय संरक्षित मंदिर पी डी एफ